fbpx

UP Govt ने फसलों को लू और मानसून की बाढ़ से बचाने के लिए व्यापक रणनीति बनाई

Date:

UP Govt ने फसलों को लू और मानसून बाढ़ से बचाने के लिए रणनीति बनाई: भीषण गर्मी और मानसून के आगमन के बीच किसानों के कल्याण के लिए समर्पित उत्तर प्रदेश सरकार ने प्रदेश की फसलों की सुरक्षा के लिए व्यापक योजना लागू की है।

यह भी पढ़ें – Jefferies; मजबूत रोजगार वृद्धि के साथ, ब्याज दरों में कटौती की संभावना नहीं

UP Govt ने फसलों को लू और मानसून की बाढ़ से बचाने के लिए व्यापक रणनीति बनाई

राज्य सरकार यह सुनिश्चित कर रही है कि किसानों को मौसमी बदलावों के कारण किसी भी विपरीत परिस्थिति का सामना न करना पड़े और उन्हें केंद्र व राज्य सरकार की सभी योजनाओं का लाभ मिले। इसी क्रम में बाढ़ के संबंध में प्रदेश के 27 अति संवेदनशील, 13 संवेदनशील और 35 सामान्य जिलों में फसल मौसम निगरानी समूह (सीडब्ल्यूडब्ल्यूजी) द्वारा दी गई तकनीकी सिफारिशों के आधार पर परामर्श जारी करने के कार्य को मूर्त रूप दिया जा रहा है। फसलों पर पड़ रहे भीषण गर्मी के प्रभाव को देखते हुए मुख्य सचिव ने क्षेत्रीय कृषि अधिकारियों को इस मौसमी प्रकोप से फसलों को बचाने की सलाह दी है।
मौसम आधारित राज्य स्तरीय कृषि परामर्श समूह (फसल मौसम निगरानी समूह) की सिफारिशों के आधार पर इसका क्रियान्वयन किया जा रहा है। सलाह में धान की नर्सरी में उचित जल निकासी और नमी के स्तर को सुनिश्चित करना, मल्चिंग तकनीक का उपयोग करना, स्प्रिंकलर और ड्रिप सिंचाई का उपयोग, नियमित हल्की सिंचाई और भूजल और वर्षा जल संरक्षण सहित जैविक उर्वरकों और समोच्च खाई विधियों का उपयोग सहित विभिन्न उपाय शामिल हैं।
राज्य में जल्द ही मानसून के सक्रिय होने की उम्मीद है, इसलिए फसलों को संभावित बाढ़ से बचाने के लिए एक व्यापक रणनीति लागू की जा रही है। फसल मौसम निगरानी समूह ने तकनीकी सिफारिशें प्रदान की हैं, जिसके परिणामस्वरूप राज्य के 27 अत्यधिक संवेदनशील, 13 संवेदनशील और 35 सामान्य जिलों के लिए सलाह जारी की जा रही है।

UP Govt ने फसलों को लू और मानसून बाढ़ से बचाने के लिए रणनीति बनाई

योजना में बाढ़ प्रतिरोधी धान की किस्मों जैसे स्वर्ण सब-1, सांभा मसूरी सब-1, आईआर-64 सब-1 और एनडीआर-99301111 को प्राथमिकता देना, साथ ही सांडा विधि को लागू करना और जून के मध्य से जुलाई की शुरुआत तक चावल की रोपाई करना शामिल है।
प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत व्यापक कवरेज सुनिश्चित करने के प्रयास चल रहे हैं, जिसमें ग्राम पंचायत स्तर पर फसलों को सुनिश्चित करने और किसानों को बीमा लाभ देने पर ध्यान केंद्रित किया जा रहा है। वहीं, पुनर्गठित मौसम आधारित फसल बीमा योजना के माध्यम से किसानों को लाभान्वित करने की प्रक्रिया भी शुरू हो गई है। इस प्रक्रिया में बीमित खरीफ फसलों के रूप में केला, मिर्च और पान को प्राथमिकता दी गई है, तथा रबी फसलों के रूप में टमाटर, शिमला मिर्च, हरी मटर और आम को प्राथमिकता दी गई है। फसलवार बीमा कराने की अंतिम तिथि केला और पान के लिए 30 जून, मिर्च के लिए 31 जुलाई, टमाटर, शिमला मिर्च और हरी मटर के लिए 30 नवंबर और आम के लिए 15 दिसंबर है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Share post:

Subscribe

Popular

More like this
Related